लिपुलेख दर्रा विवाद किसके पक्ष में है ?

डॉ बचन सिंह, निदेशक, अभिप्राय भूगोल संस्थान, जयपुर . 9782526093

 पहले कुछ सामयिक घटनाओं पर नजर डाल लेते है –

1. दरवाजा गैस क्रेटर, जिसे गेटवे टू हेल’ (Gateway to Hell) के नाम से भी जाना जाता है, किस देश में स्थित है?

उत्तर – तुर्कमेनिस्तान

तुर्कमेनिस्तान के राष्ट्रपति गुरबांगुली बर्डीमुखामेदोव ने विशेषज्ञों को दरवाजा गैस क्रेटर में लगी आग को बुझाने का तरीका खोजने का आदेश दिया है। इसे ‘गेटवे टू हेल’ के नाम से भी जाना जाता है, यह एक विशाल प्राकृतिक गैस क्रेटर है। यह तुर्कमेनिस्तान की राजधानी अश्गाबात से 260 किलोमीटर दूर काराकुम रेगिस्तान में स्थित है। यह गैस क्रेटर पिछले 50 सालों से जल रहा है ।

2. हाल ही में खबरों में रहा पश्चिमी विक्षोभ (western disturbance) किससे संबंधित है?

उत्तर – मौसम विज्ञान

पश्चिमी विक्षोभ भूमध्यसागरीय क्षेत्र में उत्पन्न होने वाला एक अतिरिक्त उष्णकटिबंधीय तूफान (extra-tropical storm) है। इसके कारण भारतीय उपमहाद्वीप के उत्तरी भागों में सर्दियों की बारिश होती है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने उत्तर पश्चिमी भारत को प्रभावित करने के लिए एक तीव्र पश्चिमी विक्षोभ की भविष्यवाणी की, जिससे वर्षा शुरू हो गई। बाद में, इसने यह भी भविष्यवाणी की कि दो पश्चिमी विक्षोभ कुछ दिनों के लिए उत्तर पश्चिमी भारत और पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र में बारिश लाएंगे ।

3. हाल ही में खबरों में रहा ‘रेड सैंडर्स’ (Red Sanders) किसकी प्रजाति है?

उत्तर – वृक्ष (लाल चंदन)

रेड सैंडर्स (लाल चंदन) दक्षिण भारत के पूर्वी घाट पर्वत श्रृंखला की एक पेड़ की प्रजाति है। यह पेड़ (Pterocarpus santalinus) को हाल ही में इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर (IUCN) रेड लिस्ट में ‘संकटग्रस्त’ (endangered) श्रेणी में वापस वर्गीकृत किया गया है । आंध्र प्रदेश के चित्तूर, कडपा, नंध्याल, नेल्लोर, प्रकाशम जिलों में पाई जाने वाली इस  प्रजाति का मूल्यांकन ‘संकटग्रस्त’ के रूप में किया गया है ।

4. 2021 में भारत और चीन के बीच द्विपक्षीय व्यापार पिछले वर्ष (2020) की तुलना में बड़ा या घटा?

उत्तर – बढ़ा (चीन के पक्ष में रहा है )

2021 में भारत और चीन के बीच द्विपक्षीय व्यापार 125.66 बिलियन डालर था, जो 2020 से 43.3% की वृद्धि पर था, जब द्विपक्षीय व्यापार 87.6 बिलियन डालर था । 2021 में, भारत को चीन का निर्यात 46.2% की वृद्धि के साथ 97.52 बिलियन डॉलर था, जबकि चीन ने भारत से 28.14 बिलियन डॉलर के सामान का आयात किया, जो कि 34.2% था । दोनों देशों के बीच व्यापार घाटा 69 अरब डॉलर पर चीन के पक्ष में था ।

5. लिपुलेखदर्रा विवाद किनके मध्य विवाद है?

उत्तर – भारत और नेपाल के मध्य

 

भारत वर्तमान में लिपुलेख दर्रे की सड़क को चौड़ा कर रहा है। नेपाली सत्ता पक्ष ने हाल ही में एक बयान जारी कर इस पर आपत्ति जताई है।साथ ही नेपाल ने भारत से इस क्षेत्र में अपने सैनिकों को वापस बुलाने की मांग की है। नेपाल ने लिपुलेख, कालापानी और लिंपियाधुरा क्षेत्रों पर भी दावा किया है।

ताजा मामला क्या है?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में कहा था कि भारत लिपुलेख दर्रे (Lipulekh pass) तक सड़क का विस्तार करने के लिए काम कर रहा है । उन्होंने ये टिप्पणी दिसंबर 2021 में हल्द्वानी की अपनी यात्रा के दौरान की थी । इसके बाद से सीमा विवाद फिर से उठ खड़ा हुआ है ।

मानचित्र से जुड़ा विवाद

2020 में, नेपाल ने संशोधित राजनीतिक मानचित्र प्रकाशित किया था। इस मानचित्र में लिंपियाधुरा क्षेत्रों को शामिल किया गया, विशेष रूप से काली नदी का स्रोत।

सुगौली संधि मुद्दा

1816 में, ब्रिटिश भारत और नेपाल ने एक संधि पर हस्ताक्षर किए । नेपाल द्वारा एंग्लो-नेपाली युद्ध हारने के बाद इस पर हस्ताक्षर किए गए थे । इस संधि के अनुसार, राप्ती और काली नदियों के बीच की पूरी तराई ब्रिटिश भारत की होगी। हालाँकि, इस संधि में रिजलाइन के बारे में बात नहीं की गई थी । अंग्रेजों द्वारा किए गए बाद के सर्वेक्षणों ने विभिन्न क्षेत्रों में काली नदी के स्रोत को दिखाया। दोनों देशों के बीच का विवाद इस क्षेत्र के सीमांकन को लेकर है ।

 

कालापानी का महत्व

कालापानी क्षेत्र में लिपुलेख दर्रा कैलाश-मानसरोवर तीर्थयात्रा के लिए रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण है ।

विवाद की जड़ ?

वर्तमान में, तीनों क्षेत्र कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा भारत के नियंत्रण में हैं । लेकिन नेपाल भी इन क्षेत्रों पर दावा करता है ।

नेपाल का रुख

नेपाल के अनुसार काली नदी का उद्गम लिंपियाधुरा के निकट पर्वत श्रृखंलाओं की ऊंचाई पर है । इस प्रकार, लिंपियाधुरा का संपूर्ण ढलान और क्षेत्र नेपाल के अंतर्गत आता है ।

भारत का रुख

सीमा कालापानी से शुरू होती है, यानी ठीक वहीं से नदी शुरू होती है । भारत के अनुसार, नदी का उद्गम लिपुलेख दर्रे के झरनों से होता है । भारत के 19वीं शताब्दी के प्रशासनिक रिकॉर्ड बताते हैं कि कालापानी भारतीय पक्ष में स्थित था ।

सुस्ता क्षेत्र विवाद

भारत और नेपाल के बीच भी सुस्ता क्षेत्र में सीमा विवाद है । यह विवाद गंडक नदी का रुख बदलने को लेकर है ।

 

स्रोत : विभिन्न न्यूज़ पेपर

स्कूल व्याख्याता , NET/JRF , Assistant Professor , PGT के लिए ऑफलाइन एवं ऑनलाइन क्लास उपलब्ध है । इसके लिए 01414000287 पर संपर्क कर सकते है।  भूगोल की प्रत्येक परीक्षा में मेरिट देने वाला एक मात्र संस्थान है । NET/JRF Dec 2019 Topper , NVS PGT  2020 में 5 वी मेरिट, KVS PGT में 11 वी मेरिट ।